Overactive root chakra

अगर आप कुण्डलिनी और चक्र जागरण की क्रिया से गुजर रहे है तो आपको Overactive root chakra warning signs के बारे में जरुर जानना चाहिए. जब हम मूलाधार चक्र जागरण की क्रिया करते है तब उर्जा के बहाव से चक्र या तो ज्यादा या फिर कम एक्टिव हो सकता है.

चक्र जागरण के दौरान हर चक्र में उर्जा का प्रवाह बैलेंस हो इस बात पर ध्यान देना बेहद जरुरी है. आवश्यकता से अधिक और कम प्रवाह होने की स्थिति में हमें अलग अलग अनुभव हो सकते है.

कुण्डलिनी जागरण के दौरान ज्यादातर साधक ऐसे अनचाहे अनुभव से गुजरते है जो उनके लिए अभ्यास को और भी ज्यादा मुश्किल बना देते है.

इसकी सबसे बड़ी वजह उर्जा का असंतुलित प्रवाह है. ऐसी स्थिति में आपको Overactive root chakra warning signs के बारे में जानकारी होना बहा जरुरी है क्यों की तभी आप अपने अभ्यास में आगे बढ़ सकते है.

ADVERTISEMENT

Web Stories

  • Trending
  • Comments
  • Latest
किसी भी पुरुष को आपका दीवाना बना देगी ये 8 खास बाते 8 वजह जो एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर की वजह बनती है ये है सबसे खतरनाक 7 कारण जो बताते है की आप रिलेशनशिप में आने की जल्दबाजी कर रहे है शास्त्र के अनुसार इन दिनों पति पत्नी को भूलकर भी संबध नहीं बनाने चाहिए