videshan tantra prayog

विद्वेषण मंत्र या फिर विद्वेषण तंत्र भी तंत्र कर्म का हिस्सा है. जिस तरह दो लोगो को एक दूसरे के करीब लाने के लिए मोहन किया जाता है वैसे ही दो लोगो को एक दूसरे से अलग करने के लिए विद्वेषण मंत्र का प्रयोग किया जाता है.
तंत्र कर्म का सही उदेश्य से प्रयोग भी किया जाता है और गलत उदेश्य की प्राप्ति के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है.
ज्यादातर इसका प्रयोग युवा वर्ग पर किया जाता है क्यों की जवानी के जोश में अक्सर युवक और युवती ऐसे रिलेशनशिप को जारी करते है जिसका कोई भविष्य नहीं होता है. अगर उन पर जोर जबरदस्ती की जाए तो वे गलत कदम उठा सकते है या फिर अपने ही घरवालो के खिलाफ चले जाते है.
इस स्थिति से बचने के लिए विद्वेषण मंत्र प्रयोग करवाया जाता है. इसके प्रयोग से दो लोगो के बीच धीरे धीरे नफरत पैदा होना शुरू हो जाती है और वे एक दूसरे को देखना भी पसंद नहीं करते है.

Follow us on Google News
ADVERTISEMENT
  • Trending
  • Comments
  • Latest